Karva Chauth 2023 date : करवा चौथ कब 31 अक्टूबर या 1 नवंबर?जाने करवा चौथ व्रत की सही डेट और मुहूर्त

Karva Chauth 2023 date :  करवा चौथ कब 31 अक्टूबर या 1 नवंबर?जाने करवा चौथ व्रत की सही डेट और मुहूर्त

Karwa Chauth 2023 : विवाहिता को हर साल करवा चौथ व्रत का बेसब्री से इंतजार रहता है,इस साल करवा चौथ की डेट को लेकर संशय की स्थिति है आईए जानते हैं करवा चौथ व्रत की सही तारीख,मुहूर्त और चंद्रोदय समय | Karva Chauth 2023: सुहागन का सबसे खास पर्व करवा चौथ हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चौथी तिथि के दिन मनाया जाता है,विवाहित महिलाओं को करवा चौथ व्रत का बेसब्री से इंतजार रहता है करवा चौथ के दिन स्त्रियां पति की लंबी आयु और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए निर्जला व्रत रखती हैं,करवा चौथ का व्रत सुबह सूर्योदय से शुरू होता है और शाम को चांद निकलने तक रखा जाता है, चंद्रमा को अध्र्य देने के बाद पति के हाथों पानी पीकर ही महिला ये व्रत खोलती है,इस साल करवा चौथ व्रत की डेट को लेकर कंफ्यूजन है तो यहां जाने करवा चौथ की सही तारीख और चांद निकलने का समय..

                                   करवा चौथ 31 अक्टूबर या 1 नवंबर 2023 कब है( Karva Chauth 31                                                                        october or 1 November 2030 )

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि की 31 अक्टूबर 2023 को रात 9:30 मिनट पर शुरू होगी, चतुर्थी तिथि की समाप्ति 1 नवंबर 2023 को रात 9:19 पर होगी, करवा चौथ व्रत उदयतिथि से मान्य होता है इसीलिए इस साल करवा चौथ 1 नवंबर 2023 बुधवार को रखा जाएगा |

करवा चौथ 2023 मुहूर्त ( Karva Chauth 2013 Muhurt )

करवा चौथ के दिन स्थितियां शाम को चौथ माता,करवा माता और गणपति की पूजा करती है और चंद्रोदय के बाद चंद्र देव को अध्य दिया जाता है | करवा चौथ व्रत समय सुबह – 6:36 – रात 8:26 | करवा चौथ पूजा मुहूर्त – शाम 5:44 – रात 7:02 (1 नवंबर 2023) | •चांद निकलने का समय – रात 8:26 (1 नवंबर 2023) | करवा चौथ क्यों मनाते हैं ( Karwa Chauth Significance) | करवा चौथ के दिन महिलाएं सूर्योदय से पहले जागकर सरगी खाकर व्रत की शुरुआत करती है, उसके बाद महिलाएं पूरे दिन निर्जला व्रत रखती है शाम को स्त्रियां दुल्हन की तरह 16 सिंगार कर तैयार होती है पूजा करती हैं,उसके बाद शाम को छलनी से चांद देखकर और पति की आरती उतार कर अपना व्रत खोलती है मान्यता है की माता पार्वती ने शिव के लिए, द्रौपदी ने पांडवों के लिए करवा चौथ का व्रत किया था करवा चौथ व्रत के प्रताप स्त्रियों को अखंड सौभाग्यवती रहने की वरदान मिलता है करवा माता उनके सुहाग की सदा रक्षा करती है और वैवाहिक जीवन में खुशहाली लाती हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *